Sunday, July 21, 2019
Home > intrnational > पाकिस्तान ने माना भारत के खिलाफ इस्तेमाल किया था एफ-16 लड़ाकू विमान

पाकिस्तान ने माना भारत के खिलाफ इस्तेमाल किया था एफ-16 लड़ाकू विमान

इंडियन एयर फोर्स ने बॉर्डर पर एक बार फिर से बड़ी पाकिस्तानी साजिश को नाकाम कर दिया है. पाकिस्तान ने रविवार देर रात भारतीय सीमा की ओर F-16 लड़ाकू विमानों का एक बेड़ा पंजाब बॉर्डर पर टोह लेने के लिए भेजा. अलर्ट एयरफोर्स की टीम ने सुखोई और मिराज की मदद से पाकिस्तान के F-16 को वापस खदेड़ दिया.

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक आज तड़के 3 बजे भारत के रडार ने पाकिस्तान के चार F-16 लड़ाकू विमानों और UAV की मूवमेंट नोटिस की. पाकिस्तान की ये लड़ाकू विमान पंजाब में खेमकरण बॉर्डर के पास थे.

भारत ने तत्काल कार्रवाई करते हुए पाकिस्तान के इन जहाजों को खदेड़ने के लिए सुखोई-30 और मिराज लड़ाकू विमानों को भेज दिया. भारत की ओर से कड़ी प्रतिक्रिया देखते हुए पाकिस्तानी जहाज वापस अपनी सीमा में चले गए.

रिपोर्ट के मुताबिक पाकिस्तानी लड़ाकू जेट्स सर्विलांस ड्रोन्स के साथ उड़ान भर रहे थे. पाकिस्तानी विमानों का मकसद संवेदनशील इलाकों में भारतीय सेना की तैनाती का पता लगाना था. इंडियन एयरफोर्स इस पूरे घटनाक्रम की जांच कर रही है.

बता दें कि बालाकोट में भारत के एयर स्ट्राइक के बाद पाकिस्तान बौखलाया हुआ है. पाकिस्तान वक्त बेवक्त भारत को उकसाने की कार्रवाई कर रहा है. 14 फरवरी को पुलवामा में आतंकी हमले के बाद भारत ने 26 फरवरी को पाकिस्तान स्थित बालाकोट में जैश के आतंकी संगठनों पर कार्रवाई की थी और आतंकी अड्डों को तबाह कर दिया था.

भारत की कार्रवाई के अगले दिन 27 फरवरी को पाकिस्तान ने अपने लड़ाकू विमान F-16 की मदद से भारत की सीमा में घुसने की कोशिश की थी. इस दौरान भारत और पाकिस्तान के एयरफोर्स में आसमान में भिड़ंत हुई थी. भारत की सेना ने पाकिस्तान के लड़ाकू विमान F-16 को मार गिराया था.

इस डॉगफाइट में भारत का एक मिग-27 विमान भी पाकिस्तानी फायरिंग की चपेट में आ गया था. इस विमान को उड़ा रहे भारत के एयरफोर्स पायलट अभिनंदन पाकिस्तानी सीमा में चले गए थे. बाद में उन्हें पाकिस्तान ने गिरफ्तार कर लिया था. हालांकि भारत के दबाव की वजह से पाकिस्तान ने 2 दिन बाद भी उन्हें सकुशल छोड़ दिया था. भारत की कार्रवाई के बाद सहमे पाकिस्तान ने लगभग एक महीने तक अपने एयरस्पेस को बंद रखा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *