Sunday, July 21, 2019
Home > खेल > T-20 WC सेमीफाइनल: भारतीय महिला टीम इंग्लैंड से बदला लेने उतरेगी

T-20 WC सेमीफाइनल: भारतीय महिला टीम इंग्लैंड से बदला लेने उतरेगी

भारतीय टीम आईसीसी महिला टी-20 वर्ल्ड कप के सेमीफाइनल में जब इंग्लैंड का सामना करने उतरेगी, तो वह पिछले साल वर्ल्ड कप फाइनल में मिली हार की कड़वी यादों को खत्म करने की कोशिश करेगी. यह मुकाबला भारतीय समयानुसार शुक्रवार सुबह 5.30 बजे शुरू होगा. इंग्लैंड ने 50 ओवरों के विश्व कप के रोमांचक फाइनल में भारतीय टीम को नौ रनों से हराया था. इस टूर्नामेंट से हालांकि भारत में महिला क्रिकेट के एक नए युग की शुरुआत हुई.

भारतीय महिला टीम ने भी विश्व टी-20 में अब तक अपने प्रशंसकों को निराश नहीं किया तथा अजेय रहते हुए सेमीफाइनल में जगह बनाई. भारतीय टीम ने न्यूजीलैंड की मजबूत टीम को 34 रनों से और फिर ऑस्ट्रेलिया को 48 रनों से हराया. इस तरह से वह लीग चरण में अपने सभी मैच जीतने में सफल रही.

मौजूदा विश्व वनडे चैंपियन इंग्लैंड की टीम काफी मजबूत है तथा पिछले साल लॉर्ड्स में मिली हार भारतीय महिला टीम की दो दिग्गजों मिताली राज और हरमनप्रीत कौर के दिमाग में रहेगी. कप्तान हरमनप्रीत का प्रदर्शन भारत की सफलता में अहम भूमिका निभाएगा, क्योंकि उन्होंने जरूरत पड़ने पर अच्छा खेल दिखाया है. मोगा में जन्मी यह खिलाड़ी बड़े मैचों में अच्छा प्रदर्शन करने के लिए जानी जाती है.

यहां तक कि मौजूदा टी-20 वर्ल्ड कप में भी हरमनप्रीत ने अच्छा प्रदर्शन किया है. न्यूजीलैंड के खिलाफ उन्होंने शानदार शतक जमाया, जबकि ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 43 रनों की तेजतर्रार पारी खेली. उन्होंने टूर्नामेंट में अब तक चार मैचों में सर्वाधिक 167 रन बनाए हैं और उनका स्ट्राइक रेट 177 है. भारत की एक अन्य बल्लेबाज स्मृति मंधाना ने 144 रन बनाए हैं और वह सर्वाधिक रन बनाने वाले बल्लेबाजों की सूची में चौथे स्थान पर हैं.

इंग्लैंड के खिलाफ भारत अपनी सबसे अनुभवी खिलाड़ी मिताली को अंतिम एकादश में रखेगा. उन्हें ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ अंतिम लीग मैच में विश्राम दिया गया था. आयरलैंड के खिलाफ क्षेत्ररक्षण के दौरान वह चोटिल हो गई थीं. उन्हें स्पिनर अनुजा पाटिल की जगह टीम में रखा जाएगा. मिताली का शीर्ष क्रम में प्रदर्शन काफी अहम साबित होगा.

रमेश पोवार की कोचिंग में टीम का एक तेज गेंदबाज के साथ खेलने की रणनीति अब तक कारगर साबित हुई है, क्योंकि भारतीय स्पिनरों ने अपनी भूमिका अच्छी तरह से निभाई है. लेग स्पिनर पूनम यादव (आठ विकेट) और बाएं हाथ की स्पिनर राधा यादव (सात विकेट) ने लगातार अच्छा खेल दिखाया है. ऑफ स्पिनर दीप्ति शर्मा (चार विकेट) और दयालन हेमलता (पांच विकेट) ने भी कसी हुई गेंदबाजी की है.

इंग्लैंड का ध्यान अपने तेज गेंदबाजी आक्रमण पर रहेगा, जिसमें अन्या श्रबसोले (सात विकेट) और नताली साइवर (चार विकेट) शामिल हैं. इन दोनों ने काफी कसी हुई गेंदबाजी की है तथा बांग्लादेश और दक्षिण अफ्रीका को 100 रनों तक भी नहीं पहुंचने दिया.

बल्लेबाजी में डेनी वैट (तीन मैचों में 28 रन) और कप्तान हीथर नाइट (तीन मैचों में 31 रन) को अभी तक खास मौका नहीं मिला है. केवल वेस्टइंडीज के खिलाफ उसकी सभी बल्लेबाजों को अवसर मिला, लेकिन टीम आठ विकेट पर 115 रन ही बना पाई और चार विकेट से मैच हार गई.

टीमें इस प्रकार हैं –

भारत: हरमनप्रीत कौर (कप्तान), स्मृति मंधाना, जेमिमा रॉड्रिग्स, मिताली राज, दीप्ति शर्मा, दयालन हेमलता, वेदा कृष्णमूर्ति, अरुंधति रेड्डी, राधा यादव, पूनम यादव, एकता बिष्ट, तानिया भाटिया (विकेटकीपर), मानसी जोशी, देविका वैद्य, अनुजा पाटिल में से

इंग्लैंड: हीथर नाइट (कप्तान), टैमी बीमोंट, सोफिया डंकले, सोफी एक्लेस्टोन, ताश फर्रान, किर्स्टी गॉर्डन, जेनी गुन, डेनियल हैजेल, एमी जोन्स, नताली साइवर, अन्या श्रबसोले, लिंसी स्मिथ, फ्रैंक विल्सन, लॉरेन विनफील्ड, डेनियल वैट.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *