Saturday, May 25, 2019
Home > लेख > सफलता के रथ पर सवार मोदी की अनकही कहानियां

सफलता के रथ पर सवार मोदी की अनकही कहानियां

नरेन्द्र मोदी का जन्म तत्कालीन बॉम्बे राज्य के महेसाना जिला स्थित वडनगर ग्राम में हीराबेन मोदी दामोदरदास मूलचन्द मोदी के एक मध्यम-वर्गीय परिवार में 17 सितम्बर 1950 को हुआ. युवावस्था में वह छात्र संगठन अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद में शामिल हुए, उन्होंने साथ ही साथ भ्रष्टाचार विरोधी नव निर्माण आन्दोलन में हिस्सा लिया, एक पूर्णकालिक आयोजक के रूप में कार्य करने के पश्चात् उन्हें भारतीय जनता पार्टी में संगठन का प्रतिनिधि मनोनीत किया गया. किशोरावस्था में अपने भाई के साथ एक चाय की दुकान चला चुके मोदी ने अपनी स्कूली शिक्षा वड़नगर में पूरी की. मोदी ने आरएसएस के प्रचारक रहते हुए 1980 में गुजरात विश्वविद्यालय से राजनीति विज्ञान में स्नातकोत्तर परीक्षा दी एम॰एससी॰ की डिग्री प्राप्त की. अपने माता-पिता की कुल छ: सन्तानों में तीसरे पुत्र नरेन्द्र ने बचपन में रेलवे स्टेशन पर चाय बेचने में अपने पिता का भी हाथ बँटाया. 13 वर्ष की आयु में नरेन्द्र की सगाई जसोदा बेन चमनलाल के साथ कर दी गयी जब उनका विवाह हुआ, वह मात्र 17 वर्ष के थे. पति-पत्नी ने कुछ वर्ष साथ रहकर बिताये. परन्तु कुछ समय बाद वे दोनों एक दूसरे के लिये अजनबी हो गये क्योंकि नरेन्द्र मोदी ने उनसे कुछ ऐसी ही इच्छा व्यक्त की थी. हालांकि नरेन्द्र मोदी ने शपथ पत्र प्रस्तुत कर जसोदाबेन को अपनी पत्नी स्वीकार किया है.

संघ के एक निष्ठावान प्रचारक के रूप में शुरुआती जीवन से ही राजनीतिक सक्रियता दिखलायी भारतीय जनता पार्टी का जनाधार मजबूत करने में प्रमुख भूमिका निभायी. 1995 में नरेन्द्र मोदी को दिल्ली बुला कर भाजपा में संगठन की दृष्टि से केन्द्रीय मन्त्री का दायित्व सौंपा गया 1998 में उन्हें पदोन्नत करके राष्ट्रीय महामन्त्री (संगठन) का उत्तरदायित्व दिया गया. अक्टूबर 2001 में गुजरात के मुख्यमन्त्री बने. वे एक लोकप्रिय वक्ता है. कुर्ता-पायजामा व सदरी के अतिरिक्त वे कभी-कभार सूट भी पहन लेते हैं, अपनी मातृभाषा गुजराती के अतिरिक्त वह हिन्दी में ही बोलते हैं

आतंकवाद पर मोदी के विचार

“आतंकवाद युद्ध से भी बदतर है, एक आतंकवादी के कोई नियम नहीं होते, एक आतंकवादी तय करता है कि कब, कैसे, कहाँ किसको मारना है, भारत ने युद्धों की तुलना में आतंकी हमलों में अधिक लोगों को खोया है. नरेंद्र मोदी ने कई अवसरों पर कहा था कि यदि भाजपा केंद्र में सत्ता में आई, तो वह सन् 2004 में उच्चतम न्यायालय द्वारा अफज़ल गुरु को फाँसी दिए जाने के निर्णय का सम्मान करेगी. भारत के उच्चतम न्यायालय ने अफज़ल को 2001 में भारतीय संसद पर हुए हमले के लिए दोषी ठहराया था एवं 9 फ़रवरी 2013 को तिहाड़ जेल में उसे लटकाया गया.

विवाद एवं आलोचनाएँ

27 फ़रवरी 2002 को अयोध्या से गुजरात वापस लौट कर आ रहे कारसेवकों को गोधरा स्टेशन पर खड़ी ट्रेन में मुसलमानों की हिंसक भीड़ द्वारा आग लगा कर जिन्दा जला दिया गया. इस हादसे में 59 कारसेवक मारे गये थे. मरने वाले 1180 लोगों में अधिकांश संख्या अल्पसंख्यकों की थी। इसके लिये मोदी प्रशासन को जिम्मेवार ठहराया गया . गुजरात की दसवीं विधानसभा भंग हुई , प्रदेश में राष्ट्रपति शासन लागू हो गया. राज्य में दोबारा चुनाव हुए बीजेपी की जीत हुई. पार्टी की ओर से पीएम प्रत्याशी घोषित किये जाने के बाद नरेन्द्र मोदी ने पूरे भारत का भ्रमण किया. इस दौरान तीन लाख किलोमीटर की यात्रा कर पूरे देश में 437 बड़ी चुनावी रैलियाँ, कुल 5827 कार्यक्रम किये. नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में भारतीय जनता पार्टी ने 2014 के चुनावों में अभूतपूर्व सफलता भी प्राप्त की. 20 मई 2014 को संसद भवन में भारतीय जनता पार्टी द्वारा आयोजित भाजपा संसदीय दल एवं सहयोगी दलों की एक संयुक्त बैठक में जब लोग प्रवेश कर रहे थे तो नरेन्द्र मोदी ने प्रवेश करने से पूर्व संसद भवन को ठीक वैसे ही जमीन पर झुककर प्रणाम किया जैसे किसी पवित्र मन्दिर में श्रद्धालु प्रणाम करते हैं. बैठक में नरेन्द्र मोदी को सर्वसम्मति से न केवल भाजपा संसदीय दल अपितु एनडीए का भी नेता चुना गया. राष्ट्रपति ने नरेन्द्र मोदी को भारत का 15वाँ प्रधानमन्त्री नियुक्त करते हुए इस आशय का विधिवत पत्र सौंपा, 26 मई 2014 को प्रधानमन्त्री पद की शपथ ली.

मोदी के अब तक के बड़े निर्णय –
योजना आयोग की समाप्ति की घोषणा
समस्त भारतीयों के अर्थव्यवस्था की मुख्य धारा में समावेशन हेतु प्रधानमंत्री जन धन योजना का आरम्भ।
रेल बजट प्रस्तुत करने की प्रथा की समाप्ति
काले धन तथा समान्तर अर्थव्यवस्था को समाप्त करने के लिये नोट बंदी
भारत के अंतर्राष्ट्रीय सम्बन्ध
शपथग्रहण समारोह में समस्त सार्क देशों को आमंत्रण
सर्वप्रथम विदेश यात्रा के लिए भूटान का चयन
ब्रिक्स सम्मेलन में नए विकास बैंक की स्थापना
अमेरिका व चीन से पहले जापान की यात्रा
पाकिस्तान को अन्तरराष्ट्रीय जगत में अलग-थलग करने में सफल
इजराइल की यात्रा, इजराइल के साथ सम्बन्धों में नये युग का आरम्भ
डिजिटल भारत
स्वच्छ भारत अभियान
नियन्त्रण रेखा के पार सर्जिकल स्ट्राइक
अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय को ‘अल्पसंख्यक विश्वविद्यालय’ न मानना
तीन बार तलाक कहकर तलाक देने के विरुद्ध निर्णय
‘मन की बात’ कार्यक्रम की शुरुआत की

ग्रन्थ रचना

सेतुबन्ध – राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के नेता लक्ष्मणराव इनामदार की जीवनी के सहलेखक (२००१ में)
आँख आ धन्य छे (गुजराती कविताएँ)
कर्मयोग
ज्योतिपुंज (2008)

सम्मान पुरस्कार
सउदी अरब के उच्चतम नागरिक सम्मान ‘अब्दुलअजीज अल सऊद के आदेश’ (The Order of Abdulaziz Al Saud) से सम्मानित किये गये हैं
जून 2016 में अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी ने भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अफगानिस्तान के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार अमीर अमानुल्ला खान अवॉर्ड से सम्मानित किया

वैश्विक छवि
फ़ोर्ब्स पत्रिका में विश्व के शक्तिशाली व्यक्तियों में 14 वां स्थान
विश्व के शक्तिशाली व्यक्तियों में 9 वां स्थान फोर्ब्स पत्रिका के सर्वे में
विश्व प्रसिद्ध फ़ोर्ब्स पत्रिका में विश्व के शक्तिशाली व्यक्तियों में मोदी का 9 वां स्थान 2016

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *