Saturday, May 25, 2019
Home > राष्ट्रीय > मोदी ने दिखाई 56 इंच की ताकत, कश्मीर समस्या के जड़-मूल से खात्मे के दिए आदेश, सेना ने लिया एक्शन.

मोदी ने दिखाई 56 इंच की ताकत, कश्मीर समस्या के जड़-मूल से खात्मे के दिए आदेश, सेना ने लिया एक्शन.

आजादी के वक़्त से ही तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू की असफल नीतियों के चलते देश में कश्मीर समस्या का जन्म हो गया. इस समस्या को देश आज तक ढो रहा है और देश के हजारों जवान कश्मीर में मारे जा चुके हैं. लेकिन मोदी सरकार ने अब कश्मीर समस्या का स्थायी समाधान ढूंढ निकाला है.

गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने की स्थायी समाधान की पुष्टि

बताया जा रहा है कि कश्मीर समस्या के समाधान को लेकर मोदी सरकार बेहद गंभीर है और कश्मीर को लेकर पीएम मोदी ने पक्का प्लान तैयार कर लिया है. केंद्र सरकार के मंत्री और सेना प्रमुख की भाषा से भी स्पष्ट संकेत मिल रहे हैं कि अब आर या पार की बात शुरू हो चुकी है. पिछले काफी वक़्त से कश्मीर में जिस तरह से अशांति व् हिंसा का माहौल व्याप्त है, उसके बाद से विपक्ष लगातार केंद्र सरकार पर हमला कर रहा है. विरोधी दल लगातार ये आरोप लगा रहे हैं कि मोदी सरकार ने कश्मीर की समस्या को और विकराल बना दिया.
केंद्र सरकार ने अब इस बारे में कई स्पष्ट संकेत दिए हैं कि कश्मीर समस्या के समाधान के लिए योजना बन चुकी है. सबसे पहले गृहमंत्री राजनाथ सिंह की बात करते हैं. राजनाथ सिंह ने साफ़ किया है कि मोदी सरकार कश्मीर समस्या के स्थायी समाधान के लिए तैयार है और इसका खाका तैयार कर लिया गया है. जल्द ही कश्मीर में शांति व् अमन बहाल होगा.

सेना प्रमुख ने साफ़ किये अपने इरादे

वहीँ सेना प्रमुख बिपिन रावत ने भी पहली बार बेहद तीखे अंदाज में बयान देते हुए स्पष्ट किया है कि जब घाटी के पत्थरबाज पत्थर व् पेट्रोल बम बरसा रहे हों तो वो अपने सैनिकों को यूँ मरने के लिए नहीं कह सकते. साथ ही उन्होंने साफ़ कहा कि यदि पत्थरबाज पत्थर की जगह बंदूक चलाएंगे तो उन्हे ज्यादा खुशी होगी. उनके इस बयान से जाहिर है कि यदि गोली चलेगी तो सेना उसका जवाब गोली से देगी.
वहीँ पत्थरबाज को मानव ढाल बनाने वाले मेजर गोगोई को सम्मानित करके भी सेना प्रमुख ने सेना के व् सरकार के इरादे साफ़ किये हैं कि पत्थरबाजों की मनमानी अब और नहीं चलेगी. सेना प्रमुख ने मेजर गोगोई की तारीफ करते हुए कहा कि कश्मीर में ऐसे ही और नए तरीके खोजने होंगे. उनके इस कदम से सेना का हौसला बढ़ा है, वहीं पत्थरबाजों केी हालत खराब हो गई है. सेना की और से ये स्पष्ट संकेत हैं कि वो अपने हिसाब से कश्मीर में शांति बनाएगी और उन्हें पीएम मोदी की ओर से पूरी छूट मिली हुई है.

कश्मीरी नौजवानों को सकारात्मक संदेश

वहीँ मोदी सरकार ने घाटी के लोगों को अहमियत देते हुए ये दिखाना शुरू कर दिया है कि यदि कश्मीरी युवा पत्थर फेकेगा तो बेमौत मारा जाएगा लेकिन यदि देश के साथ खड़ा होगा तो पैसे के साथ-साथ नाम-सम्मान व् शौहरत भी मिलेगी. घाटी के नौजवानों को सकारात्मक संदेश देने के लिए सेना ने लेफ्टिनेंट उमर फयाज की शहादत के बाद एक स्कूल का नाम बदलकर शहीद लेफ्टिनेंट उमर फयाज कर दिया है. लेफ्टिनेंट उमर फयाज के परिजनों को 75 लाख रुपये मुआवजा भी दिया गया है.

आतंकियों के खिलाफ जंग का ऐलान

कश्मीरी नौजवानों को सकारात्मक संदेश देने के साथ-साथ पत्थरबाजों व् आतंकियों की क्या गति होगी ये भी दिखाया जाना शुरू कर दिया है. सेना को कश्मीर में खुली छूट दे दी गयी है, जिसके बाद सेना ने बुरहान वानी के उत्तराधिकारी सब्जार अहमद भट को भी मार गिराया है. वो वानी के बाद हिज्बुल का टॉप कमांडर था.
पत्थरबाजों और अलगाववादियों को सबक सिखाने के लिए मोदी सरकार एक नए प्लान के तहत 10 हजार युवाओं की स्‍पेशल पुलिस ऑफीसर्स (एसपीओ) में भर्ती करने जा रही है. इसका मुख्य काम ही पत्थरबाजों से निपटने का होगा. इससे सेना को कश्‍मीर में आतंकवादियों पर अंकुश लगाने में भी मदद मिलेगी.
एक के बाद एक उठाये जा रहे कई बड़े-बड़े कदमों के जरिये कश्मीर समस्या को स्थायी समाधान की ओर ले जाया जा रहा है. कश्मीर में शान्ति के लिए पाकिस्तान की अक्ल ठिकाने लगाने का इंतजाम भी किया जा रहा है. सेना प्रमुख विपिन रावत ने कहा है कि अब पाकिस्तान को ईंट को जवाब पत्थर से दिया जाएगा. भारतीय सेना द्वारा पाकिस्तान पर किये गए हालिया हमले इस बात की पुष्टि भी करते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *